‘पद्मावती’ को लेकर आई अच्‍छी खबर, विरोध करने वालों को लगा बड़ा झटका

संजय लीली भंसाली की फिल्‍म ‘पद्मावती’ को लेकर एक राहत की खबर आई है। बता दें कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को फिल्म ‘पद्मावती’ की समीक्षा कराने के लिए इतिहासकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की एक समिति गठित करने के लिए दायर जनहित याचिका खारिज कर दी। याचिका यह सुनिश्चित करने के लिए दायर की गई थी कि ऐतिहासिक तथ्यों से कोई छेड़छाड़ हुई है या नहीं। न्यायालय ने कहा कि इस तरह की याचिकाओं से उन लोगों को प्रोत्साहन मिलता है, जो फिल्म का विरोध कर रहे हैं।

न्यायालय ने कहा कि ऐतिहासिक फिल्म की रिलीज के खिलाफ याचिका ‘निराशाजनक और गलत विचार’ को दर्शाती है और ऐसी याचिकाएं उन लोगों का उत्साह बढ़ाती हैं, जो इसकी रिलीज के खिलाफ हैं। गौरतलब है फिल्‍म को लेकर पूरे देश में विरोध की लहर चल रही है। वहीं कोर्ट का यह निर्णय मेकर्स के लिए काफी राहत भरा है। (यह भी पढ़ें :  ‘पद्मावती’ मेकर्स से सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी हुए खफा, सामने आई ये वजह)

गौरतलब है कि फि‍ल्‍म का विरोध कर रही राजपूत करणी सेना का कहना है की फिल्म में रणवीर सिंह (खिलजी) और दीपिका पादुकोण (रानी पद्मावती) के बीच कुछ अभद्र सीन को दिखाया गया है। जिसके चलते फि‍ल्‍म की समि‍क्षा की मांग की गई थी। बात दें, यह फिल्म महारानी ‘पद्मावती’ की बायोपिक है। जिसमें दीपिका पादुकोण रानी पद्मावती की भूमिका में हैं। वहीं शाहिद कपूर फिल्म में रावल रतन सिंह का रोल कर रहे हैं। ये देखना दिलचस्प है कि फिल्म में रणवीर सिंह अलाउद्दीन खिलजी के रोल में हैं।
(इनपुट : IANS से)