फिल्म रिव्यू : कॉमेडी और ड्रामा से भरपूर है अजय देवगन की ‘दे दे प्यार दे’

सिनेमा – दे दे प्यार दे

सिनेमा प्रकार – कॉमेडी ड्रामा

कलाकार – अजय देवगन, तब्बू, रकुल प्रीत सिंह

निर्देशक – आकिव अली

अवधी– 2 घंटा 40 मिनट

प्रस्तावना

अजय देवगन की फिल्म ‘दे दे प्यार दे’ का लोगों को कई दिनों से इंतज़ार है। इस फिल्म में एक बार फिर अजय के साथ तब्बू की जोड़ी देखने के लिए लोग बेकरार हैं। चलिए जानते हैं फिल्म आपका मनोरंजन कर पाएगी या नहीं।

कहानी

50 साल का आशिष (अजय देवगन) शादीशुदा और दो युवा बच्चों का बाप है। लंदन में खुद का बिजनेस करता है। यहां दोस्त की बैचलर पार्टी के दौरान उसकी मुलाकात अपने से आधी उम्र की कम लड़की यानी 26 साल की आयशा (रकुल प्रीत सिंह) से होती है। अशिष, आयशा को बताता है कि वह तलाकशुदा है। इसके बाद धीरे-धीरे दोनो के बीच मुलाकात का सिलसिला शुरू होता है और फिर प्यार हो जाता है। आयशा के साथ अपने रिलेशनशिप को आगे बढ़ाने के लिए अशिष आयशा को अपने परिवार से मिलाता है। तभी आयशा को आशिष की पत्नी मंजू (तब्बू) के बारे में पता चलता है और यहीं से शुरू होता है कहानी में मजेदार ट्विस्ट। तो क्या आशिष और आयशा मिल पाते हैं? क्या आशिष का परिवार आयशा को अपनाएगा?  यह सब जानने के लिए आपको पूरी फिल्म देखनी होगी

अदाकारी

अजय देवगन ने एक बार फिर अपना दमदार अभिनय दिखाया है। वहीं तब्बू ने भी अपने अभिनय से यह साबित कर दिया कि वह एक मंझी हुई अदाकारा हैं। रकुल प्रीत का अभिनय थोड़ा कमज़ोर था पर उन्होने पूरी कोशिश की है। जावेद जाफ़री ने अपने छोटे से किरदार में ही अमिट छाप छोड़ी है।

निर्देशन

आकिव अली का निर्देशन ठीक-ठाक है। एक डेब्यू निर्देशक के तौर पर उन्होने अच्छी कोशिश की है।

संगीत

फिल्म में अमाल मलिक का गाना ‘चले आना’ आप बार बार सुनना पसंद करेंगे। इसके अलावा अरजित सिंह की ‘दिल रोई जाए’ आपको भावुक कर देगा। बाकि गाने बेमतलब लगते हैं।

ख़ास बातें

1 लोकेशन काफी खूबसूरत हैं।

2 कुछ दृश्य काफी मनोरंजन करते हैं।

3 ब्रेक के बाद कहानी दिलचस्प मोड़ लेती है।

कमज़ोर कड़ियां

1 फिल्म को ज़रूरत से ज्यादा खींचा गया है।

2 रकुल की अदाकारी थोड़ी कमज़ोर है।

3 बैकग्राउंड स्कोर कमज़ोर है।

देखें या ना देखें

दोस्तो के साथ इस फिल्म का भरपूर मजा ले सकते हैं।

रेटिंग

3/5